DharmShakti

Jai Ho

शिव मंत्र Shiva Mantra in Hindi

शिव मंत्र (Shiva Mantra in Hindi)

सृष्टि के रचयेता ब्रह्मा जी तथा पालन करता विष्णु भगवान हैं, परंतु विनाशक देवों के देव महादेव शिव जी हैं जिनको हिन्दू धर्म में सर्वोपरि माना गया है | शिव जी जितने उग्र है उतने ही भोले भी भी हैं इसीलिए उनको भगवान भोलेनाथ भी कहा जाता है | अतिशीघ्र प्रसन्न होने वाले शिव जी के पूजन से समस्त भय का नाश होता है और जीवन आनंदमय हो जाता है | भगवान शिव का पूजन सोमवार के दिन विशेष रूप से किया जाता है | शिव जी को पूजने के लिए उनका मूल मंत्र तो “ओम नमः शिवाय” ही है परंतु इस मंत्र के अलावा भी कई और मंत्र है जिनके जपने से शिव जी अत्यंत प्रसन्न हो जाते है और भक्तों पर अनन्य सुख बरसाते है |

इच्छानुरूप फल पाने के लिए शिवजी मंत्र (Shiv Mantra to fulfill desires)

भगवान शिव जी के आराधना से मनचाहा फल प्राप्त करने के लिए इन मंत्रों का जाप करें:-

shiva mantra

नागेंद्रहाराय त्रिलोचनाय भस्मांग रागाय महेश्वराय
नित्याय शुद्धाय दिगंबराय तस्मे न काराय नम: शिवाय:॥
मंदाकिनी सलिल चंदन चर्चिताय नंदीश्वर प्रमथनाथ महेश्वराय
मंदारपुष्प बहुपुष्प सुपूजिताय तस्मे म काराय नम: शिवाय:॥
शिवाय गौरी वदनाब्जवृंद सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय
श्री नीलकंठाय वृषभद्धजाय तस्मै शि काराय नम: शिवाय:॥
अवन्तिकायां विहितावतारं मुक्तिप्रदानाय च सज्जनानाम्।
अकालमृत्यो: परिरक्षणार्थं वन्दे महाकालमहासुरेशम्।।

सर्वदा स्वस्थ रहने के लिए शिवजी के मंत्र (Lord Shiva Mantra for Health)

सदैव स्वस्थ रहने के लिए और रोगों से मुक्ति पाने के लिए शिव जी की पूजा इन मंत्रों के साथ करनी चाहिए:-

सौराष्ट्रदेशे विशदेऽतिरम्ये ज्योतिर्मयं चन्द्रकलावतंसम्।
भक्तिप्रदानाय कृपावतीर्णं तं सोमनाथं शरणं प्रपद्ये ।।
कावेरिकानर्मदयो: पवित्रे समागमे सज्जनतारणाय।
सदैव मान्धातृपुरे वसन्तमोंकारमीशं शिवमेकमीडे।।

भगवान शिव की आराधना करते समय इन मंत्रो का जाप करना चाहिए|

भगवान भोले नाथ के पूजन के समय इन विशेष मंत्रों के उच्चारण से उनको स्न्नान करना चाहिए जिससे उनके आशीर्वाद की प्राप्ति होती है :-

ॐ वरुणस्योत्तम्भनमसि वरुणस्य सकम्भ सर्ज्जनीस्थो |
वरुणस्य ऋतसदन्यसि वरुणस्य ऋतसदनमसि वरुणस्य ऋतसदनमासीद् ||

इन मंत्रों के साथ शिव जी को यज्ञोपवीत अर्पण करें:-

ॐ ब्रह्म ज्ज्ञानप्रथमं पुरस्ताद्विसीमतः सुरुचो वेन आवः |
स बुध्न्या उपमा अस्य विष्ठाः सतश्च योनिमसतश्च विवः ||

इन मंत्रों के साथ शिव जी को गंध अर्पण करना चाहिए:-

ॐ नमः श्वभ्यः श्वपतिभ्यश्च वो नमो नमो भवाय च रुद्राय च नमः |
शर्वाय च पशुपतये च नमो नीलग्रीवाय च शितिकण्ठाय च ||

भगवान शिव जी को प्रसन्न करने के लिए इन मंत्रों को उच्चारित करके पुष्प (सुगन्धित फूल) अर्पण करना चाहिए:–

ॐ नमः पार्याय चावार्याय च नमः प्रतरणाय चोत्तरणाय च |
नमस्तीर्थ्याय च कूल्याय च नमः शष्प्याय च फेन्याय च ||

त्रिलोचनाय भगवान शिव जी की पूजा के समय इन मंत्रों को उच्चारित करके नैवेद्य समर्पण करना चाहिए:-

ॐ नमो ज्येष्ठाय च कनिष्ठाय च नमः पूर्वजाय चापरजाय च |
नमो मध्यमाय चापगल्भाय च नमो जघन्याय च बुधन्याय च ||

भगवान शिव जी पर इन मंत्रों के साथ ताम्बु फल व पुंगीफल समर्पण करना चाहिए:-

ॐ इमा रुद्राय तवसे कपर्दिने क्षयद्वीराय प्रभरामहे मतीः |
यशा शमशद् द्विपदे चतुष्पदे विश्वं पुष्टं ग्रामे अस्तिमन्ननातुराम् ||

भगवान भोलेनाथ को पूजते समय इस मंत्र से सुगन्धित तेल समर्पण करना चाहिए-

ॐ नमः कपर्दिने च व्युप्त केशाय च नमः सहस्त्राक्षाय च शतधन्वने च |
नमो गिरिशयाय च शिपिविष्टाय च नमो मेढुष्टमाय चेषुमते च ||

भगवान भोलेनाथ की पूजा करते समय इन मंत्रों के साथ धूप, दीप अर्पण करें-

ॐ नमः आराधे चात्रिराय च नमः शीघ्रयाय च शीभ्याय च |
नमः ऊर्म्याय चावस्वन्याय च नमो नादेयाय च द्वीप्याय च ||

महादेव शिवजी पर इन मंत्रों का उपयोग करके बेल पत्र अर्पण करें:-

दर्शनं बिल्वपत्रस्य स्पर्शनं पापनाशनम् |
अघोरपापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम् ||

भगवान शिव शंकर अति दयालु है वह सहज ही अपने भक्तों पर कृपा कर देते हैं, उनको प्रसन्न करने के लिए बहुत सरल और अचूक मंत्र बताये गए हैं | इन विशेष मंत्रों को प्रतिदिन रुद्राक्ष की माला के साथ जपने से अत्यंत लाभ होता है | शिव जी के इन विशेष मंत्रों का जप पूर्व अथवा उत्तर दिशा में मुंह करके करना बड़ा ही शुभ बताया गया है | याद रहे कि जप करने से पहले शिव जी को बिल्व पत्र( बेल की पत्तियां) अर्पण जरूर करें और जल में दूध मिलाकर शिवलिंग पर अर्पण करें |

सृष्टि के संहारकर्ता देवादि देव महादेव का मूल मंत्र जिसे पंचाक्षर मंत्र “ओम नमः शिवाय” परम शक्तिशाली, असरकारक, अमोघ और मोक्षदायी बताया गया है जिसके जप करने से समस्त दुखो का नाश होता है | परंतु यदि किसी व्यक्ति पर विषम काल की उपस्थिति है या कठिन समय चल रहा हो तो उसको पूर्ण मन लगन से “”ॐ नमः शिवाय शुभं शुभं कुरू कुरू शिवाय नमः”” मंत्र का एक लाख बार जाप करना चाहिए, इस मंत्र के जाप के प्रभाव से बड़ी से बड़ी बाधा दूर हो जाती है और जीवन में खुशियों का आगमन होता है |भगवान शिव की आराधना के लिए इन मंत्रों का जाप करना चाहिए:-

| ॐ ऊर्ध्व भू फट् |

| ॐ नमः शिवाय |

|ॐ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय |

|ॐ नमो भगवते दक्षिणामूर्त्तये मह्यं मेधा प्रयच्छ स्वाहा |

|ॐ इं क्षं मं औं अं |

| ॐ प्रौं ह्रीं ठः |

| ॐ नमो नीलकण्ठाय |

| ॐ पार्वतीपतये नमः |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DharmShakti © 2017
}
error: Content is protected !!