DharmShakti

Jai Ho

Category: Uncategorized

विश्वविजय सरस्वती कवच

विश्वविजय सरस्वती कवच सरस्वती ज्ञान, बुद्धि, कला व संगीत की देवी हैं। इनकी उपासना करने से मुर्ख व्यक्ति भी विद्वान बन सकता है। अनेक प्रकार से देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। उन्हीं में से एक है विश्वविजय सरस्वती कवच। यह बहुत ही अद्भुत है। विद्यार्थियों के लिए यह विशेष read more

चांडाल शब्द का अर्थ होता

* चांडाल शब्द का अर्थ होता है क्रूर कर्म करनेवाला, नीच कर्म करनेवाला. इस चांडाल शब्द पे से ज्योतिष -शास्त्र में एक योग है. जिसे गुरु चांडाल योग या विप्र योग कहा जाता है.राहू और केतु दोनों छाया ग्रह है. पुराणों में यह राक्षस है. राहू और केतु के लिए बड़े सर्प या अजगर की क read more

गृह-कलह निवारण प्रयोग

गृह-कलह निवारण प्रयोग :- ऐसे में कोई भी एक जन ( पति या पत्नी )..निम्न मंत्र का जाप करे , वातावरण मधुर बनेगा मंत्र : धां धीं धूं धूर्जटेः पत्नी वां वीं वूं वागधीश्वरी। क्रां क्रीं क्रूं कालिका देवि शां शीं शूं मे शुभं कुरु पूजन विधि : १. भगवती दुर्गा का चित्र सामने हो , read more

DharmShakti © 2017
error: Content is protected !!